संदेश

2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं
पेंटिंग करने वाला मजदूर बड़ी मुश्किल से नबोदय विद्यालय में मिलता है ? रूम हिंदी के लिए काणकोण में, पिछले दस वर्षों के इन्तजार के बाद मिला एक छोटा-सा रूम श्री एस. कन्नन के कारण खिल गया मन में गुलाब साल बाद बड़ी तमन्ना से बिल्डिंग पेंटिंग के साथ उसे भी पेंट कराया बिश्वास कर रूम की चाभी दे दिया मजदूर को, वह अच्छे से इसे पेंट कर देगा ! .....तीन दिन बाद किया, उसने पेंटिंग कुछ छूटा-छूटा- सा खो दिया चाभी बेचारा ! डर से तैयार था, बदलने के लिए ताला कहाँ उसे, हुक से निकालने को केवल ताला कहाँ उसने दोपहर करेंगे, हो गई शाम, दूसरे दिन सुबह वही हालत पाया क्रोध आया, क्यों झूठ बोला ?