संदेश

October, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मेरी अनुभूति में गोवा

वर्षों से हमने अनुभव किया गोवा हमारा सबसे है न्यारा विकास करने मेंदेश का सिर मौर्य स्वतंत्रता, समानता स्त्री का सम्मान, सहयोगऔर सौंदर्य है इसकी पहचान। हजारों में हो जाती है इनकी पहचान है इसमें कौन? गोवन इंसान हिंदी, मराठी, अंग्रेजी है शान, परंतु बहती है कोंकणी शरीर में, बन कर प्राण। छोटे छोटे स्कूलऔर छोटे छोटे मकान प्यारी प्यारी स्त्रियाँ और नौजवान। गोवा के पश्चिमी तट पर