संदेश

December, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मित्र पर कविता

चित्र
मित्र
जिन्हें हम मित्र समझे हैं,                              
बहुत खामोश रहते हैं,
मालूम नहीं वे!
खुश या नाराज़ होते हैं,
हम तो अपनों को
शुभ प्रभात कहते हैं।