मित्र पर कविता


      मित्र
जिन्हें हम मित्र समझे हैं,                              
बहुत खामोश रहते हैं,
मालूम नहीं वे!
खुश या नाराज़ होते हैं,
हम तो अपनों को
शुभ प्रभात कहते हैं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

देवनागरी लिपि में भारत की भाषाओं को लिखने की अद्भुत क्षमता

भक्ति आंदोलन और प्रमुख कवि

शिक्षा का महत्व