मैं मोबाइल हूँ

मैं मोबाइल हूँ

मैं बड़े काम की चीज हूँ, तुम सब की अजीज हूँ।


छ: अक्षर के मेरे नाम, पूरा करते तेरे काम ।


बूढ़े बच्चे हों जवान, किस्मत कनेक्शन हुआ असान।


संकट से मैं तुम्हें बचाऊँ, चोरी में भी साथ निभाऊँ।


फिर भी रखती तुम्हारा ध्यान, टिकट निमंत्रण और पहचान।


बच्चों की मैं ज़ानम-ज़ान, गेम खेल करते परेशान।


अनेक रूप आज हमारे, जिससे बढ़ते सम्मान तुम्हारे।


मैं हूँ सब जन की वायस, मेरा नाम है मोबायल॥

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भक्ति आंदोलन और प्रमुख कवि

विश्वविख्यात पहलवान नरसिंह यादव के साथ धोखा क्यों?

मित्र पर कविता