विश्वविख्यात पहलवान नरसिंह यादव के साथ धोखा क्यों?

क्या थी उसकी गलती ?
क्यों उसे डोपिंग में फंसाया?
क्यों एक उभरते होनहार का,
निर्दयता से गला दबाया।

क्या उसने अपनी काबीलियत
साबित कर दी तुमसे बेहतर
क्यों उसके दुश्मनों ?
देश के पुत्र को फंसाया।

राष्ट्रकुल के अखाड़े में 
स्वर्ण से भारत मां का मान बढ़या
दक्षेस और एशियाई खेलों में
भारत का नाम चमकाया।

क्या बिगड़ा था, वह गरीब
सामान्य परिवार से आया,
क्यों तुम ईर्ष्या से भर गए?
क्योंकि तुमसे ज्यादा वह भारत का नाम बढ़ाया।

हर गली और गांव में
बैठे हैं देश के जयचंद
कितने होनहारो को
नित्य नष्ट करते है
क्योंकि उनसे डरते हैं?
कहीं चूर न कर दे
झूठी और दलाली की सेखी
ए धरती पुत्र नरसिंह पहलवान।
                                                ------संतोष गोवन की ओर से नरसिंह को समर्पित

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भक्ति आंदोलन और प्रमुख कवि

मित्र पर कविता