श्रीमान वृजेश शर्मा

छन्द
सामने जो है, उसे लोग बुरा कहते हैं.
जिसको देखा ही नहीं उसको खुदा कहते है.

देखना दिल की सदाईं तो नहीं ,
ऐसी खामोसी में खोया कौन है.
ऐ दोस्तों आप ही फरमाओ,
हम बुरे तो इस जग में अच्छा कौन है.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भक्ति आंदोलन और प्रमुख कवि

मातृभाषा शिक्षण का माध्यम क्यों नहीं?

विश्वविख्यात पहलवान नरसिंह यादव के साथ धोखा क्यों?