कहता है मन

कुछ करने को कहता है मन पर समय का अभाव और दुनियादारी से पीछा कैसे छुड़ाना है , उसी को सोच रहा हूँ लिखने को तो लाखों प्रसंग अभी भी अनछुए पड़े है उस पर लेखनी चलनी है श्री जैन जी से मुलाकात का विवरण भी देना है.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

देवनागरी लिपि में भारत की भाषाओं को लिखने की अद्भुत क्षमता

भक्ति आंदोलन और प्रमुख कवि

शिक्षा का महत्व