तलाश

हम हैं तलाश में किसी औजार के,
जो हारे हुए को विजयी बनाता हो ,
दिखाता हो सबको अपना चेहरा,
उसे असली चेहरे की पहचान करता हो,
है कोई जो ऊपर है स्वार्थों की दीवार से
क्या इसी में पीसते रहोगे प्यारे.
बोलो है कोई औजार जो स्वपनों को,
साकार करता है ..
आप का दोस्त.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भक्ति आंदोलन और प्रमुख कवि

मातृभाषा शिक्षण का माध्यम क्यों नहीं?

विश्वविख्यात पहलवान नरसिंह यादव के साथ धोखा क्यों?