कहानी आप की

मन कहता है मै भी कहानी लिखूं,
मगर क्यों बार-बार मन पीछे हो जाता है,
शायद देख कर कल की संसदीय कार्यवाही,
दिल छोटा हो जाता है।
अपनों ने किया अपनों पर आघात न जानें क्यों,
शायद रूपया अब भावनावों और नियमों से बलवान हो गया है,
पूरा शहर और गांव देख रहा था, निर्लज्जता बलवान हो रही,
टूट जा रहा है विश्वास , क्योंकि पैसा भगवान होता जा रहा है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भक्ति आंदोलन और प्रमुख कवि

विश्वविख्यात पहलवान नरसिंह यादव के साथ धोखा क्यों?

हिन्दी या हिंदी क्या सही है के बहाने